top of page
  • Writer's pictureIRIS Hybrid Seeds

फसल विविधता की शक्ति: भारतीय कृषि को जमीनी स्तर से मजबूत बनाना




भारत के कृषि परिदृश्य के विशाल विस्तार में, मिट्टी-फसल विविधता के नीचे अथक परिश्रम करने वाला एक मूक नायक है। हालाँकि यह हमेशा सुर्खियाँ नहीं बटोर सकता, लेकिन इसके महत्व को कम करके नहीं आंका जा सकता। तो, आइए देखें कि फसल विविधता न केवल किसानों के लिए बल्कि पूरे देश के लिए क्यों मायने रखती है।


फसल विविधता क्या है?


फसल विविधता का सीधा सा मतलब है कि केवल एक या दो पर निर्भर रहने के बजाय विभिन्न प्रकार की फसलों की खेती करना। अपने सभी अंडों को एक टोकरी में रखने के बजाय, यह एक विविध निवेश पोर्टफोलियो रखने जैसा है। खेती के संदर्भ में, यह एक ही भूमि पर बारी-बारी से या एक साथ विभिन्न फसलें बोना है।



क्या फर्क पड़ता है?


जोखिमों को कम करना: एक ऐसे परिदृश्य की कल्पना करें जहां एक विशेष फसल कीट के संक्रमण या मौसम में अचानक बदलाव के प्रति संवेदनशील हो। यदि किसान ने यही एकमात्र फसल लगाई है, तो यह उनकी आजीविका के लिए संकट पैदा कर सकता है। हालाँकि, फसल विविधता के साथ, यदि एक फसल विफल हो जाती है, तो अन्य फसलें पनप सकती हैं, जिससे नुकसान के खिलाफ सुरक्षा जाल उपलब्ध हो सकता है।

मृदा स्वास्थ्य को बढ़ाना: विभिन्न फसलों की पोषक तत्वों की आवश्यकताएं अलग-अलग होती हैं। विभिन्न प्रकार की फसलें उगाकर, किसान मिट्टी में विशिष्ट पोषक तत्वों की कमी को रोक सकते हैं। कुछ फसलों की जड़ें भी गहरी होती हैं जो जमी हुई मिट्टी को तोड़ देती हैं, जबकि अन्य मिट्टी में नाइट्रोजन जोड़ती हैं, जिससे सिंथेटिक उर्वरकों की आवश्यकता कम हो जाती है।

पैदावार में सुधार: फसल चक्र, फसल विविधता का एक प्रमुख घटक, कीटों और बीमारियों के जीवनचक्र को तोड़ने में मदद करता है। इससे कीटनाशकों की आवश्यकता कम हो जाती है और स्वस्थ पौधों की वृद्धि को बढ़ावा मिलता है, जिससे अंततः समय के साथ बेहतर पैदावार होती है।


जलवायु परिवर्तन के अनुरूप ढलना: जलवायु परिवर्तन अप्रत्याशित मौसम पैटर्न ला रहा है, फसलों की विविध श्रृंखला होने से किसानों को अधिक आसानी से अनुकूलन करने की अनुमति मिलती है। कुछ फसलें सूखे या बाढ़ के प्रति अधिक लचीली हो सकती हैं, जिससे चरम मौसम की घटनाओं के बावजूद भी अधिक स्थिर आय सुनिश्चित हो सकती है।


जैव विविधता का संरक्षण: प्रत्येक फसल की किस्म बड़े पारिस्थितिकी तंत्र में एक पहेली के टुकड़े की तरह है। विविध फसलों की खेती करके, किसान जैव विविधता के संरक्षण में योगदान देते हैं, जो पारिस्थितिकी तंत्र के संतुलन और लचीलेपन को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है।


किसान फसल विविधता कैसे लागू कर सकते हैं?



फसल चक्र: एक चक्रीय कार्यक्रम की योजना बनाएं जहां कीट चक्र को तोड़ने और मिट्टी के पोषक तत्वों को फिर से भरने के लिए क्रमिक मौसमों में विभिन्न फसलें लगाई जाती हैं।


अंतरफसल: एक ही खेत में दो या दो से अधिक फसलें एक साथ लगाने से न केवल पैदावार में विविधता आती है बल्कि भूमि उपयोग दक्षता भी अधिकतम होती है।


कवर फसलें: परती अवधि के दौरान कवर फसलें लगाने से मिट्टी के कटाव को रोकने, खरपतवारों को दबाने और मिट्टी की उर्वरता में सुधार करने में मदद मिलती है।


बीज की बचत: पारंपरिक ज्ञान और आनुवंशिक विविधता को संरक्षित करते हुए, किसानों को स्वदेशी फसल किस्मों से बीज बचाने के लिए प्रोत्साहित करें।



निष्कर्ष


फसल विविधता केवल एक फैंसी अवधारणा नहीं है; यह टिकाऊ कृषि का एक मूलभूत स्तंभ है। फसल विविधता को अपनाकर, किसान न केवल अपनी आजीविका की रक्षा करते हैं बल्कि भावी पीढ़ियों के लिए अधिक लचीली और टिकाऊ खाद्य प्रणाली के निर्माण में भी योगदान देते हैं। यह हमारे पैरों के नीचे गुमनाम नायक का जश्न मनाने और एक उज्जवल, अधिक प्रचुर कल के लिए फसल विविधता की शक्ति का उपयोग करने का समय है।




6 views0 comments

Comments


bottom of page